Join Whatsapp Group

Tuesday, August 22, 2023

चंद्रयान-3: चांद पर उतरने से कुछ मिनट पहले टाली जा सकती है चंद्रयान-3 की लैंडिंग, इसरो ने तय किया रिजर्व डे.. जानिए क्या है प्लान बी..

 चंद्रयान-3: चांद पर उतरने से कुछ मिनट पहले टाली जा सकती है चंद्रयान-3 की लैंडिंग, इसरो ने तय किया रिजर्व डे.. जानिए क्या है प्लान बी..





चांद से बस चंद कदम दूर...भारत के चंद्रयान-3 मिशन पर 'अवतार' के बजट से एक तिहाई से भी कम खर्च!




चंद्रयान-3: चंद्रयान-3 का लैंडर मॉड्यूल चंद्रमा के पास चक्कर लगा रहा है. इसके 23 अगस्त की शाम को चंद्रमा पर उतरने की संभावना है। अगर 23 अगस्त 2023 को शाम 5.30 से 6.30 बजे के बीच चंद्रयान-3 के लैंडर को लैंडिंग के लिए उपयुक्त जगह नहीं मिली तो लैंडिंग टाली जा सकती है. यह एक तरह का बैकअप प्लान है. या दूसरे शब्दों में कहें तो हर वैज्ञानिक अपने मिशन के लिए एक प्लान बी बनाता है। इसरो ने ऐसा ही किया है.



इसरो का एक केंद्र गुजरात के अहमदाबाद में है। इसका नाम स्पेस एप्लीकेशन सेंटर (SAC) है. इसके निर्देशक नीलेश एम. देसाई ने कहा कि 23 अगस्त 2023 को लैंडिंग से दो घंटे पहले इसरो के प्रमुख वैज्ञानिक तय करेंगे कि लैंडिंग कराई जाए या नहीं.


देसाई ने कहा कि इसमें हम देखेंगे कि हमें उतरने के लिए उपयुक्त जगह मिल रही है या नहीं। कैसी है लैंडर की हालत? साथ ही चंद्रमा के वायुमंडल और सतह की स्थिति क्या है. क्या यह उतरने लायक है? यदि कोई गलती पाई जाती है या संदेह उत्पन्न होता है। तो चंद्रयान-3 की लैंडिंग 27 अगस्त 2023 को होगी. अगर कोई दिक्कत नहीं हुई तो 23 अगस्त को लैंडिंग कराई जाएगी.

लैंडिंग के लिए अहमदाबाद सेंटर ने एक खास डिवाइस बनाई है


LHDAC कैमरा विशेष रूप से इस उद्देश्य के लिए डिज़ाइन किया गया है कि विक्रम लैंडर को चंद्रमा की सतह पर सुरक्षित रूप से कैसे उतारा जाए। इसे स्पेस एप्लीकेशन सेंटर, अहमदाबाद द्वारा ही विकसित किया गया है। इसके साथ ही लैंडिंग के दौरान कुछ और पेलोड मदद करेंगे, जिनके नाम हैं- लैंडर पोजिशन डिटेक्शन कैमरा (एलपीडीसी), लेजर अल्टीमीटर (एलएएसए), लेजर डॉपलर वेलोसीमीटर (एलडीवी) और लैंडर हॉरिजॉन्टल वेलोसिटी कैमरा (एलएचवीसी) एक साथ काम करेंगे। ताकि लैंडर को सुरक्षित सतह पर उतारा जा सके.



लैंडर किस गति से चंद्रमा की सतह पर उतरेगा?

जब विक्रम लैंडर चंद्रमा की सतह पर उतरेगा तो उसकी गति करीब 2 मीटर प्रति सेकंड होगी। लेकिन क्षैतिज गति 0.5 मीटर प्रति सेकंड होगी. विक्रम लैंडर 12 डिग्री के झुकाव पर उतर सकता है। ये सभी उपकरण विक्रम लैंडर को इस गति, दिशा और समतल जमीन का पता लगाने में मदद करेंगे। ये सभी उपकरण लैंडिंग से करीब 500 मीटर पहले सक्रिय हो जाएंगे.


 यह चार पेलोड उतारने के बाद काम करेगा

इसके बाद विक्रम लैंडर में लगे चारों पेलोड काम करना शुरू कर देंगे. यह रंभा (रंभा) है। यह चंद्रमा की सतह पर सूर्य से प्राप्त प्लाज्मा कणों के घनत्व, मात्रा और विविधता की जांच करेगा। चैस्टे, यह चंद्रमा की सतह की गर्मी यानी तापमान की जांच करेगा। आईएलएसए लैंडिंग स्थल के आसपास भूकंपीय गतिविधि की निगरानी करेगा। लेजर रेट्रोरेफ्लेक्टर एरे (एलआरए), चंद्रमा की गतिशीलता को समझने की कोशिश करेगा।


ISRO ની હવે સૂરજ ઉપર જવાની તૈયારી લેખ વાચવા માટે અહીં ક્લિક કરો

આ પણ વાંચો :- આ માહિતી ગુજરાતી માં વાંચવા અહીં ક્લિક કરો.


ચંદ્ર પરથી આવી નવી તસવીરો   અહીથી જુઓ 


यहां आप लैंडिंग को लाइव देख सकते हैं

आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके लाइव देख सकते हैं... लाइव प्रसारण 23 अगस्त 2023 को शाम 5.27 बजे शुरू होगा...

इसरो वेबसाइट… https://www.isro.gov.in/

यूट्यूब पर… https://www.youtube.com/watch?v=DLA_64yz8Ss

फेसबुक पर… https://www.facebook.com/ISRO


ઈસરો દ્વારા ચંદ્રયાન 3 પર મહાક્વિઝ માટે અહીં ક્લિક કરો



No comments:

Post a Comment

Feature post.

India Post Recruitment 2024 – Opening for GDS Posts | Apply Online

India Post GDS Recruitment 2024:  The Indian Postal Department has released the notification for the recruitment of 44228 Gramin Dak Sevak (...

Popular post