Join Whatsapp Group

Friday, September 1, 2023

आदित्य-एल1 पहला सौर मिशन: भारत का 'सूर्ययान

 2 सितंबर को लॉन्च होगा भारत का 'सूर्ययान', 127 दिन में पूरा करेगा 15 लाख किमी का सफर



आदित्य-एल1 पहला सौर मिशन: भारत का अंतरिक्ष यान लैंगेंजियन प्वाइंट पर पार्किंग स्थल पर तैनात किया जाएगा


तैनाती के बाद सूर्य का अध्ययन करेगा आदित्य-एल1, लेकिन सूर्य के करीब नहीं पहुंच पाएगा: अब तक भेजे गए 22 सूर्य मिशन


चंद्रयान-3 की शानदार सफलता के बाद इसरो वैज्ञानिकों का मनोबल बढ़ा हुआ है और अब 2 सितंबर-2023 को आदित्य-एल1 मिशन लॉन्च करने की तैयारी की जा रही है. प्रक्षेपण श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से होगा। अहमदाबाद में इसरो के अंतरिक्ष अनुप्रयोग निदेशक नीलेश एम. देसाई ने कहा कि आदित्य-एल1 तैयार है... प्रक्षेपण के लिए तैयार है...


आदित्य-एल1 भारत का पहला सौर मिशन

नीलेश ने कहा कि 'आदित्य-एल1' 15 लाख किलोमीटर की यात्रा 127 दिनों में पूरी करेगा. यह मिशन सतीश धवन केंद्र में स्थित है। वहां से इसे रॉकेट में फिट किया जाएगा। आदित्य-एल1 को लोग सूर्ययान भी कहते हैं। आदित्य-एल1 भारत का पहला सौर मिशन है। इन मिशनों में सबसे महत्वपूर्ण विज़िबल एमिशन कोरियोग्राफ़ (VELC) है, जिसे भारतीय खगोल भौतिकी संस्थान द्वारा बनाया गया है। सूर्ययान में 7 पेलोड हैं, जिनमें से 6 पेलोड इसरो और अन्य संगठनों द्वारा विकसित किए गए हैं।


आदित्य-एल1 अंतरिक्ष यान को पृथ्वी और सूर्य के बीच एल1 कक्षा में स्थापित किया जाएगा। यानी, सूर्य और पृथ्वी प्रणालियों के बीच वर्तमान पहला लैंगेरियन बिंदु... यहीं पर आदित्य-एल1 तैनात किया जाएगा। दरअसल लोरेंजियन पॉइंट अंतरिक्ष का पार्किंग स्थल है। यहां कई उपग्रह तैनात किए गए हैं। भारत का सूर्ययान पृथ्वी से करीब 15 लाख किलोमीटर दूर इसी बिंदु पर तैनात किया जाएगा. इस स्थान से सूर्य का अध्ययन किया जाएगा, हालांकि यह सूर्य के करीब नहीं जाएगा...


वीईएलसी सूर्य की एचडी तस्वीरें खींचेगा


अंतरिक्ष यान पर लगा वीईएलसी सूर्य की एचडी तस्वीरें खींचेगा। इस अंतरिक्ष यान को पीएसएलवी रॉकेट से लॉन्च किया जाएगा। वीईएलसी पेलोड के प्रमुख अन्वेषक राघवेंद्र प्रसाद ने कहा कि इस पेलोटन में स्थापित वैज्ञानिक कैमरा स्पेक्ट्रोस्कोपी और पोलारिमेट्री करने के अलावा सूर्य की उच्च-रिज़ॉल्यूशन छवियों को कैप्चर करेगा...

ભારતને સ્પેસમાં સુપરપાવર બનતા કોઈ ન રોકી શકે, ISRO એ કરી મોટી જાહેરાત, આકાશમાં કરશે ફરી સૌથી મોટી કમાલ



Aaditya L1 લોન્ચિંગ લાઈવ જોવો નીચેની સાઈટ દ્વારા

સૂર્ય યાન ઈસરોની વેબસાઇટ પર લાઈવ જોવા માટે અહીં ક્લિક કરો

સુર્ય યાન ઈસરોની યું ટ્યુબ ચેનલ પર લાઈવ જોવા માટે અહીં ક્લિક કરો

ઇસરોના ફેસબુક પેજ પર લાઈવ જોવા માટે અહીં ક્લિક કરો

ડાયરેક્ટ આદિત્ય L1 લોન્ચિંગ લાઈવ જોવા માટે અહીં ક્લિક કરો

આ પણ વાંચો. :- માહિતી ગુજરાતીમાં વાંચવા અહીંથી જાઓ


अब तक 22 सोलर मिशन भेजे जा चुके हैं

अब तक अमेरिका, जर्मनी, यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी सूर्य पर कुल 22 मिशन भेज चुके हैं। केवल एक मिशन विफल हुआ है, जबकि एक आंशिक रूप से सफल रहा है। नासा ने 1960 में पहला सूर्य मिशन पायनियर-5 लॉन्च किया। जर्मनी ने नासा के सहयोग से 1974 में सूर्य पर अपना पहला मिशन भेजा। यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने भी नासा के सहयोग से 1994 में अपना पहला मिशन भेजा था। नासा ने सर्वाधिक सूर्य मिशन भेजे हैं। नासा ने सूर्य पर कुल 14 मिशन भेजे हैं, जिनमें से 12 सौर ऑर्बिटर हैं, यानी वे सूर्य की परिक्रमा करते हैं। नासा के पार्कर सोलर प्रोब ने सूर्य के चारों ओर 26 चक्कर लगाए हैं।

No comments:

Post a Comment

Feature post.

Kedarnath Temple 360 Degree View

  Kedarnath Temple 360 Degree View Kedarnath Temple 360 Degree View:  360 Degree Kedarnath View Kedarnath Back side and Front Side 360 Degre...

Popular post